पोस्ट शेयर करे

मुंबई, कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर और उसकी रोकथाम के लिए स्थानीय स्तर पर लगाए गए ‘लॉकडाउन’ और अन्य पाबंदियों से 75 लाख से अधिक लोगों को नौकरियों से हाथ धोना पड़ा है. इससे बेरोजगारी दर चार महीने के उच्च स्तर 8 प्रतिशत पर पहुंच गई है. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन एकोनॉमी (सीएमआईई) ने सोमवार को यह कहा.सीएमआईई के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) महेश व्यास ने कहा कि आने वाले समय में भी रोजगार के मोर्चे पर स्थिति चुनौतीपूर्ण बने रहने की आशंका है. उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘मार्च की तुलना में अप्रैल महीने में हमने 75 लाख नौकरियां गंवाई. इसके कारण बेरोजगारी दर बढ़ी है. ’ कें द्र सरकार के आंकड़े के अनुसार राष्ट्रीय बेरोजगारी दर 7.97 प्रतिशत पहुंच गई है. शहरी क्षेत्रों में 9.78 प्रतिशत, जबकि ग्रामीण स्तर पर बेरोजगारी दर 7.13 प्रतिशत है. इससे पहले, मार्च में राष्ट्रीय बेरोजगारी दर 6.50 प्रतिशत थी और ग्रामीण तथा शहरी दोनों जगह यह दर अपेक्षाकृत कम थी. कोविड-19 महामारी बढ़ने के साथ कई राज्यों ने ‘लॉकडाउन’ समेत अन्य पाबंदियां लगाई हैं. इससे आर्थिक गतिविधियों पर प्रतिकूल असर पड़ा और फलस्वरूप नौकरियां प्रभावित हुई हैं. व्यास ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि कोविड-महामारी कब चरम पर पहुंचेगी, लेकिन रोजगार के मार्चे पर दबाव जरूर देखा जा सकता है.’ हालांकि, उन्होंने कहा कि फिलहाल स्थिति उतनी बदतर नहीं है जितनी की पहले ‘लॉकडाउन’ में देखी गई थी. उस समय बेरोजगारी दर 24 प्रतिशत तक पहुंच गई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

RBI का ऐलान;अब नहीं मिलेगा 2000 रुपये का नोट, नोटबंदी के बाद लाया गया था

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेनई दिल्ली, बहुत जल्द आपको मार्केट से 2000 के नोट…

पेटीएम मनी अब शुरू करेगी नया इनोवेशन सेंटर, इन लोगों को मिलेगी नौकरी

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेनई दिल्ली, पेटीएम मनी (Paytm Money) अब पुणे में टेक्नोलॉजी…

कोरोना संकट ने पायलट को बनाया डिलीवरी ब्वॉय, 6 लाख पाने वाला घर-घर पहुंचा रहा है सामान

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेबैंकॉक, कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए लंबे समय…

रसोई को मिली राहत; गैस सिलेंडर 897.50 रुपये, नहीं बढ़े दाम

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेरायपुर, कोरोना संक्रमण के मौजूदा दौर में मध्यम वर्गीय परिवार…