पोस्ट शेयर करे

नईदिल्ली, पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे के बाद पंजाब कांग्रेस में खलबली मच गई है। इधर, बड़ी खबर यह है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने सिद्धू का इस्तीफा मंजूर नहीं किया है। सूत्रों के मुताबिक, हाईकमान ने राज्य के नेताओं से अपने स्तर पर मामला सुलझाने को कहा है।

सिद्धू के समर्थन में मंत्री रजिया सुल्ताना ने भी चन्नी कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है। रजिया सिद्धू के सलाहकार और पूर्व DGP मोहम्मद मुस्तफा की पत्नी हैं। उन्होंने मंगलवार सुबह ही चार्ज संभाला था। पंजाब कांग्रेस के नवनियुक्त कोषाध्यक्ष गुलजार इंद्र सिंह चहल महासचिव योगेंद्र ढींगरा ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

परगट के भी इस्तीफे की खबर, लेकिन उनका इनकार
इस बीच, खबर ये भी आई कि कैबिनेट मंत्री परगट सिंह ने भी इस्तीफा दे दिया है। हालांकि, यह खबर फ्लैश होने के बाद परगट ने अपने इस्तीफे की खबरों को नकारते हुए साफ किया कि वे पंजाब कैबिनेट में बने हुए हैं।

इधर, पटियाला में नवजोत सिंह सिद्धू के घर पर कांग्रेस विधायक जमा होने लगे हैं। पार्टी के वर्किंग प्रधान कुलजीत नागरा, इंद्रबीर सिंह बुलारिया, मंत्री रजिया सुल्ताना और उनके पति मोहम्मद मुस्तफा सिद्धू के घर पहुंच गए हैं। मुस्तफा सिद्धू के सलाहकार हैं और सोमवार को ही उन्होंने कैप्टन पर तंज कसते हुए सिद्धू की अगुवाई में अगले साल होने वाले पंजाब विधानसभा चुनाव में जीत पक्की बताई थी।

चन्नी ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई, तय करेंगे कि सिद्धू को मनाएं या नहीं
पंजाब के CM चरणजीत चन्नी ने बुधवार शाम को ही इमरजेंसी बैठक बुलाई है। बैठक में सभी कैबिनेट मंत्रियों को बुलाया गया है। सिद्धू के इस्तीफे से पैदा हुए हालात को लेकर चर्चा होगी। सूत्रों के मुताबिक, मीटिंग में यह भी तय होगा कि सिद्धू को मनाया जाएगा या नहीं।

कन्हैया-जिग्नेश को कांग्रेस में शामिल कराने की प्रेस कॉन्फ्रेंस में नहीं पहुंचे राहुल
पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से अचानक इस्तीफे के बाद पार्टी में हड़कंप मचा हुआ है। दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय पर जबर्दस्त हलचल जारी है। बिहार से कन्हैया कुमार और गुजरात से जिग्नेश मेवाणी मंगलवार कांग्रेस में शामिल हुए। दोनों को कांग्रेस में शामिल कराने के लिए राहुल गांधी कांग्रेस मुख्यालय तो पहुंचे, लेकिन दोनों को कांग्रेस में शामिल कराने के लिए जब प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू हुई, तो राहुल गांधी इसमें नहीं पहुंचे। इससे थोड़ी देर पहले जब राहुल गांधी से नवजोत सिंह सिद्धू के पद छोड़ने के बारे में सवाल किया गया, तो वे बिना कुछ बोले आगे बढ़ गए।

कांग्रेस ने दिल्ली में होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस का समय तीन बार बदला
सिद्धू के अचानक इस्तीफे का असर इस बात से ही जांचा जा सकता है कि पार्टी मुख्यालय में होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस का समय तीन बार बदला गया। पहले दोपहर 3.30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करने की बात कही गई थी। सिद्धू के इस्तीफे के बाद इसका समय बदलकर शाम 4.30 बजे कर दिया गया। इसके बाद पार्टी ने कॉन्फ्रेंस के समय में एक बार फिर बदलाव किया। आखिरकार शाम 5.20 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू हो पाई। इसमें भी राहुल मौजूद नहीं थे।

केसी वेणुगोपाल ने कन्हैया-मेवाणी को कांग्रेस में शामिल कराया
कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस में पार्टी प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा- आज हम सब के लिए विशेष दिन है। इस मंच पर दो नौजवान बैठे हैं, जो किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। जिन्होंने लगातार मोदी सरकार और हिटलरशाही जो इस देश में चल रही है, से अपने तरीके से व्यापक संघर्ष किया है। ये आवाज और मजबूत होगी, अब ये आवाज राहुल गांधी की आवाज से मिलकर एक और एक 11 हो जाएगी। इसके बाद पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी के पार्टी में शामिल होने की घोषणा की।

बादल बोले – सिद्धू मिस गाइडेड मिसाइल, वे पंजाब छोड़कर जाएं
मैंने पहले कहा था कि सिद्धू एक ‘मिसगाइडेड मिसाइल’ है जिसका पता नहीं कि कहां जाएगी या किसे मारेगी। पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बनकर पहले कैप्टन को तबाह किया फिर अपनी पार्टी कांग्रेस का सफाया कर दिया। पंजाब को बचाना है तो सिद्धू साहब से विनती है कि वह मुंबई चले जाएं

कांग्रेस सांसद बोले- शाह से मिलने वाले एक से बढ़कर दो न हो जाएं
लुधियाना से सांसद रवनीत बिट्‌टू ने कहा कि आज कांग्रेस में बड़ा अच्छा माहौल था। मंत्री कुर्सी संभाल रहे थे। कांग्रेस वर्कर भी खुश थे। यह चुनाव का वक्त है। अब किसी नाराज को कोई मनाएगा नहीं। कैप्टन की अमित शाह से मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर बिट्‌टू ने सिद्धू पर तंज कसा कि कहीं मुलाकात करने वाले एक की जगह 2 न हो जाएं।

अमरिंदर खेमे ने शेरो-शायरी के जरिए सिद्धू पर साधा निशाना
नवजोत सिंह सिद्धू के पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफे के बाद जहां पार्टी में हड़कंप है, तो वहीं पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का खेमा उन पर निशाना साध रहा है। कैप्टन के सलाहकार रवीन ठुकराल ने मेहंदी हसन का गीत ट्वीट किया। इसमें उन्होंने लिखा कि जिसकी फितरत में हो डसना, वो तो डसेगा…। इसके अलावा कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने पंजाबी में एक पारंपरिक गीत ट्वीट किया, जिसमें मिर्जा गालिब का जिक्र है।

इस्तीफे की वजह बने नेता-अफसर पद छोड़ें: विधायक सुखपाल खैहरा
आम आदमी पार्टी छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए सुखपाल खैहरा ने कहा कि जो भी नेता और अफसर सिद्धू के इस्तीफे की वजह हैं, वे तुरंत अपने पद छोड़ दें। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को कांग्रेस हाईकमान और नवजोत सिद्धू के धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए। खैहरा ने सिद्धू से इस्तीफे पर दोबारा विचार करने के लिए कहा। खैहरा ने हाईकमान से भी मांग की कि सिद्धू के उठाए मुद्दों को प्रमुखता से लेकर उनका समाधान किया जाए।

कैप्टन के सलाहकार बोले- जिसकी फितरत में हो डसना, वो तो डसेगा
सिद्धू के इस्तीफे के बाद अमरिंदर सिंह के एडवाइजर रवीन ठुकराल ने जो ट्वीट किया, उसमें साफ तौर पर सिद्धू पर तंज कसा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

रमेश बैस बने झारखंड के राज्यपाल, 8 राज्यों में नए गवर्नर्स

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेनई दिल्ली, त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस को स्थानांतरित कर…

महंगाई के खिलाफ कांग्रेस ने किया हाईवे जाम;​​​​​​​ 20 मिनट तक चक्काजाम से लगी गाडियों की लाइन

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेरायपुर, महंगाई, पेट्रोल-डीजल और घरेलू गैस की बढ़ती कीमतों के…

चिकित्‍सकों पर टिप्‍पणी करना बाबा रामदेव को पड़ा भारी,रायपुर में एफआइआर दर्ज

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेरायपुर, चिकित्‍सकों पर योग गुरु बाबा राम देव की विवादित टिप्‍पणी…

KISAN MORCHA; 26 जुलाई को विधानसभा सत्र के पहले दिन किसान करेंगे धरना प्रदर्शन

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेरायपुर, हांडीपारा स्थित छत्तीसगढ़ी भवन में आज छत्तीसगढ़ी संयुक्त किसान…