पोस्ट शेयर करे

रायपुर, विकासखंड तिल्दा  के ग्राम नहरडिह में पेनिकल माइट कीट प्रकोप की शिकायत मिली है।इससे लगभग 125 एकड रकबा प्रभावित पाया गया।

कीट प्रकोप की सूचना मिलते ही कृषि विज्ञान केन्द्र रायपुर से कृषि वैज्ञानिक डा.चंद्रमणि साहू एवं कृषि अधिकारी श्रीमती ममता पाटिल, सहायक संचालक कृषि द्वारा गत दिवस ग्राम नहरडीह में फसल निरीक्षण किया गया, जिसके दौरान धान किस्म महामाया में पेनिकल माइट कीट से लगभग 50 हेक्ट. रकबा प्रभावित पाया गया । 
 कृषि विभाग रायपुर के उप संचालक ने बताया कि इसकी रोकथाम हेतु डा.चंद्रमणि साहू द्वारा कृषकों को कीटनाशक दवा डायकोफॉल 1350 मि.लि. प्रति हे. अथवा इथियान 500 मि.लि. प्रति हे. अथवा प्रोपिनोजेट 1250 मि.लि. हे. अथवा प्रोपिनोजेट़हेक्जाथाइजोक्स 1250 मि.लि. प्रति हे. अथवा स्पाईरोमेसीफीन 400 मि.लि. प्रति हे. का धान के खेत में छिडकाव करने की सलाह दी गई। 

साथ ही कृषि अधिकारी के द्वारा कृषकों को उपरोक्त सभी कीटनाशक दवाईयों के समस्त कृषि केन्द्र में उपलब्ध होने के संबंध में अवगत कराते हुए चर्चा के दौरान समस्त कृषकों को सलाह दी गई, कि जहां भी पेनिकल माइट कीट का प्रकोप पाये जाने पर उपरोक्त अनुशंिसत कीटनाशक दवाओं में से किसी भी एक दवा का तत्काल छिडकाव करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Fish Farming: छत्तीसगढ़ में मछली पालन को मिला कृषि का दर्जा

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेरायपुर, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की कैबिनेट ने 20 जुलाई को…

INSPECTION;खाद-बीज के 87 अमानक नमूनों के लाट का विक्रय प्रतिबंधित, संस्थाओं को नोटिस

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेरायपुर, कृषि विभाग द्वारा राज्य में रासायनिक उर्वरकों, बीज एवं…

सीमावर्ती क्षेत्रों के खरीदी केन्द्रों पर विशेष सतर्कता बरती जाए: डाॅ. प्रेमसाय सिंह टेकाम

पोस्ट शेयर करे
सहकारिता मंत्री ने गरियाबंद और महासमुंद जिले में किया धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण

किसानों की आय बढ़ाने में मछली पालन की महत्वपूर्ण भूमिका; डाॅ.पाटील ने किया मत्स्य बीज उत्पादन कार्यक्रम का शुभारंभ

पोस्ट शेयर करे
पोस्ट शेयर करेरायपुर, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के अंतर्गत संचालित कृषि…