कानून-व्यवस्था

महिला ने बचाई 24 यात्रियों की जान;चलती बस में ड्राइवर को मिर्गी आई तो यात्री महिला ने स्टेयरिंग थामकर खाई में गिरने से बचाया

पुणे, महाराष्ट्र के पुणे में एक बेहद हैरान करने वाली घटना हुई है। सड़क पर तेज रफ्तार से दौड़ रही सरकारी बस के ड्राइवर को अचानक मिर्गी का दौरा पड़ गया और वह ड्राइविंग सीट से गिर पड़ा। बस अनियंत्रित होकर खाई में गिरने लगी तो उसमें यात्रा कर रही एक महिला ने गजब का साहस दिखाकर 24 यात्रियों की जान बचा ली। महिला ने फुर्ती दिखाते हुए बस की स्टेयरिंग संभाली और उसे चलाते हुए बड़ी दुर्घटना होने से बचा ली। महिला के इस साहसी काम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। इस वीडियो में वे बस चलाती हुई नजर आ रहीं हैं।

बहादुरी का यह कारनामा पुणे की रहने वाली योगिता धर्मेंद्र सातव ने किया है। 42 साल की योगिता ने न सिर्फ बस को 10 किलोमीटर चलाकर उसमें सवार सभी यात्रियों को सुरक्षित उनके डेस्टिनेशन तक पहुंचाया, बल्कि बस के ड्राइवर को इलाज के लिए एक प्राइवेट हॉस्पिटल में भी भर्ती कराया।

कार चलाना जानती थी, पहले कभी नहीं चलाई थी बस
योगिता ने बताया कि मैं कार चलाना जानती थी, लेकिन मैंने पहले कभी बस नहीं चलाई थी। ड्राइवर और अन्य यात्रियों की जान खतरे में देखकर मैंने बस चलाने का डिसिजन लिया। इसके बाद ड्राइवर को साइड में किया और फिर बस का स्टेयरिंग संभाल लिया। सबसे पहले ड्राइवर को इलाज की जरूरत थी। उसे पास के गांव के हॉस्पिटल में भर्ती कराया और फिर अन्य साथी महिला यात्रियों को उनके डेस्टिनेशन तक पहुंचाया।

ड्राइवर को सही समय पर हॉस्पिटल पहुंचाया
जानकारी के अनुसार, पुणे के वाघोली की 23 महिलाओं का ग्रुप 7 जनवरी को शिरूर तालुका के मोराची चिंचोली में घूमने के लिए गया था। तभी अचानक यह घटना हुई। इसी दौरान ड्राइवर को मिर्गी का दौरा आया और वह गिर पड़ा। बस में सवाल महिलाओं और उनके साथ मौजूद बच्चों ने डरकर चीखना और रोना शुरू कर दिया। तभी योगिता ने बस का स्टेयरिंग संभाल लिया और उसे चलाते हुए अगले गांव तक लेकर आईं।

यहीं एक प्राइवेट हॉस्पिटल में ड्राइवर का इलाज किया गया। फिलहाल उसकी हालत ठीक है और डॉक्टर्स का कहना है कि उसे जल्द ही डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। संकट की घड़ी में योगिता ने बस की कमान संभालकर जिस तरह ड्राइवर और दूसरी महिलाओं की जान बचाई, उसकी चारों ओर तारीफ हो रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button