कृषि

तीन दिनी किसान मेला आज से मुख्यमंत्री बघेल करेंगे शुभारंभ

कृषि मंत्री श्री चौबे ने राष्ट्रीय कृषि मेला की तैयारियों का लिया जायजा


रायपुर, कृषि विभाग छत्तीसगढ़ शासन एवं इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के संयुक्त तत्वावधान में 23 से 25 फरवरी 2020 तक तीन दिवसीय राष्ट्रीय कृषि मेले का आयोजन ग्राम तुलसी बाराडेरा थोक फल-सब्जी मंडी में किया जा रहा है।  राष्ट्रीय कृषि मेला 2020 का शुभांरम्भ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा 23 फरवरी को अपरान्ह 4 बजे किया जाएगा। 

कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने आज शाम राजधानी रायपुर के तुलसी बाराडेरा पहुंचकर वहां आयोजित होने वाले तीन दिवसीय राष्ट्रीय कृषि मेला की तैयारियों का जायजा लिया और अधिकारियों को सभी आवश्यक व्यवस्थाएं समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने मेला स्थल में कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मछलीपालन तथा ग्रामोद्योग विभाग के द्वारा लगाए जा रहे स्टालों का निरीक्षण किया। उन्होंने मेले में लगाए गए विभिन्न विभागीय स्टालों में किसानों को कृषि और उनसे जुड़े विभिन्न गतिविधियों के उन्नत तकनीकों की जानकारी प्राप्त हो, यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर कृषि उत्पादन आयुक्त एवं प्रमुख सचिव कृषि डॉ. मनिन्दर कौर द्विवेदी, कृषि विभाग के सचिव धनंजय देवांगन, संचालक पशु चिकित्सा सी. आर. प्रसन्ना, मंडी बोर्ड के प्रबंध संचालक अभिनव अग्रवाल एजीएम महेंद्र सवन्नी, सयुक्त संचालक ए के कुम्भज, कलेक्टर डा भारतीदासन सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

किसान मेले में मिलेंगे पोषक अनाज, व्यंजन एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद
 
इस मेले में कृषि एवं अन्य विभागों के स्टाल के अलावा पोषण सुरक्षा से संबंधित स्टाल भी लगाया जायेगा। इस स्टाल में विश्वविद्यालय के निदेशालय विस्तार सेवायें के अन्तर्गत प्रत्येक जिले में संचालित कृषि विज्ञान केन्द्रों द्वारा पेाषक अनाज, खाद्य पदार्थ, व्यंजन, प्रसंस्कृत पदार्थ एवं मूल्य संवर्धित पदार्थों को प्रदर्शन हेतु रखा जाएगा। इस स्टाल का मुख्य उद्देश्य कृषकांे व संबंधित जनों को पोषण से संबंधित व्यावहारिक जानकारी प्रदान करना हैं इस तरह वे अपनी पोषण आवश्यकता के अनुसार कम लागत में स्थानीय रूप से उपलब्ध खाद्य पदार्थों, सब्जी, फलों का दक्षतापूर्ण उपयोग कर पोषण प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा ग्रामीण परिवार को आयु, व्यवसाय, लिंग के अनुसार अनुशंसित दैनिक पोषक आहार की संतुलित मात्रा के उपयोग की जानकारी प्रदाय की जायेगी। साथ ही विभिन्न स्थानीय खाद्य पदार्थाें जैसे – अनाज, दाल, फल, सब्जी इत्यादि में उपलब्ध पोषक तत्वों की निर्धारित मात्रा से भी अवगत कराया जायेगा। ग्रामीण महिलाओं की पोषण संबंधी जिज्ञासाओं का भी समाधान किया जायेगा।

कृषक पाठशाला का भी आयोजन: मिलेगा प्रशिक्षण
राष्ट्रीय कृषि मेला में कृषक पाठशाला का आयोजन भी किया जाएगा। पाठशाला में किसानों को न केवल महत्वपूर्ण योजनाओं और कृषि तकनीक की जानकारी और प्रशिक्षण भी दिया जाएगा, बल्कि यहां किसान प्रश्न मंच के माध्यम से कृषकों से प्रश्न भी पूछे जाएगें, सही उत्तर दने वाले किसानों को ’’ किसान प्रश्न मंच- विजेता कप’’ से सम्मानित भी किया जाएगा।किसान पाठशाला में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, मृदा स्वास्थ एवं मिट्टी परीक्षण में मृदा नमूना लेने की विधि, मृदा स्वास्थ का महत्व, सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी के लक्षण, जैविक खाद तैयार करने की विभिन्न विधियां, भू-नाडेप, नाडेप व वर्मी कम्पोस्ट, जैविक कीटनाशी तैयार करना एवं उपयोग करना के तरीकोें के बारे में जानकारी दी जाएगी। इसी तरह समन्वित पौध प्रबंधन, केन्द्र प्रवर्तित एवं राज्य प्रवर्तित योजनाओं की जानकारी, द्विफसली क्षेत्र विस्तार दलहन एवं तिलहन फसलों का महत्व, इंटीग्रेटेड फार्मिग, उन्नत तकनीकी से फसल उत्पादन में वृद्धि, उन्नत कृषि यंत्रों की जानकारी, खेती से कम लागत पर अधिक आय प्राप्त करना, जलाशय में मत्स्य विकास, मछली उत्पादन में वृद्धि, पशु प्रबंधन, दुग्ध उत्पादन में हरा चारा का महत्व, मशरूम उत्पादन, उद्यानिकी एवं अन्य कृषि विषयों पर भी जानकारी दी जाएगी।

Related Articles

One Comment

  1. 103801 868327Spot on with this write-up, I must say i believe this superb site needs a lot a lot more consideration. Ill probably be once once more to learn a great deal a lot more, a lot of thanks that details. 983138

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button