अर्थव्यवस्था

फिल्म प्रोड्यूसर्स-डिस्ट्रीब्यूटर्स के 40 ठिकानों पर आयकर छापा; 200 करोड़ की बेहिसाब संपत्ति मिली

चैन्नई, तमिलनाडु के कुछ फिल्म प्रोड्यूसर्स, वितरकों और फाइनांसर्स के ठिकानों पर रेड करके आयकर डिपार्टमेंट ने 200 करोड़ रुपये से अधिक की अघोषित संपत्ति का पता लगाया है। सीबीडीटी ने शनिवार को जानकारी देते हुए बताया कि तमिलनाडु के कई बड़े शहरों में करीब 40 ठिकानों पर आईटी रेड किया गया था। यह रेड कई दिनों तक चला।

क्या बताया सीबीडीटी ने?

सीबीडीटी ने कहा कि आयकर विभाग ने हाल ही में तमिलनाडु में कुछ फिल्म निर्माताओं, वितरकों और फाइनेंसरों पर छापेमारी के बाद 200 करोड़ रुपये से अधिक की अघोषित आय का पता लगाया है। 2 अगस्त को तलाशी शुरू की गई। इसे रेड में चेन्नई, मदुरै, कोयंबटूर और वेल्लोर में करीब 40 परिसरों को कवर किया गया। हालांकि, आईटी ने पहचान उजागर नहीं की है।

29 करोड़ से अधिक की नकदी और सोना जब्त

आयकर विभाग ने छापेमारी के दौरान 26 करोड़ रुपये की अघोषित नकदी और 3 करोड़ रुपये से अधिक के सोने के आभूषण जब्त करने का दावा किया है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एक बयान में कहा कि अब तक तलाशी अभियान में 200 करोड़ रुपये से अधिक की अघोषित आय का पता चला है। इसमें कहा गया है कि विभाग ने बेहिसाब नकद लेनदेन और निवेश से संबंधित कई दस्तावेज, डिजिटल उपकरण जब्त किए हैं, यहां तक ​​​​कि गुप्त और छिपे हुए परिसर का भी पता चला है।

अघोषित धन का इस्तेमाल अलग-अलग जगहों पर

फिल्म निर्माण घरानों के मामले में, कर चोरी का पता चला है क्योंकि फिल्मों की रिलीज से प्राप्त वास्तविक राशि नियमित बहीखातों में दिखाई गई राशि से कहीं अधिक है। सीबीडीटी ने कहा, “उनके द्वारा अर्जित की गई बेहिसाब आय को अघोषित निवेश के साथ-साथ विभिन्न अघोषित भुगतानों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। बोर्ड विभाग के लिए प्रशासनिक प्राधिकरण है। बताया गया है कि फिल्म वितरकों के मामले में जब्त किए गए दस्तावेज सिनेमाघरों से बेहिसाब नकदी के संग्रह का संकेत देते हैं।

Related Articles

Back to top button