सम्पादकीय

छत्तीसगढ में राजधानी समेत 60 ठिकानों पर आयकर छापे

500 अफसर, 200 सीआरपीएफ के जवान तैनात, दिल्ली एवम मध्यप्रदेश से आए आयकर अफसर-कर्मी

रायपुर, छत्तीसगढ़ में गुरुवार को सुबह आठ से ज्यादा रसूखदारो के राजधानी एवम भिलाई समेत करीब 60 ठिकानो पर आयकर विभाग के छापे पड़े। इनमेें नामी लोगों के अलावा अफसर और महापौर एजाज ढेबर के ठिकाने भी शामिल हैं। इस छापे में 500 अफसर व कर्मचारी इन लोगों की कुंडली खंगाल रहे हैं। सुबह करीब 5 बजे से ही अफसरों की टीमों का संबंधित ठिकानों पर पहुंचना शुरू हो गया, उसके बाद छापेमारी की कार्रवाई हुई। आईटी अफसर अपनी पहचान बदलकर और गाड़ियों पर अलग-अलग स्टीकर लगाकर छापे के लिए पहुंचते रहे , ताकि किसी को भी शक न हो। हालाकि छानबीन की कारवाई बेेहद गोपनीय हैैै, लेकिन राजधानी सहित पूरे प्रदेश मेें हडकंप मच गई है।

बताया गया है कि राज्य के पूर्व मुख्य सचिव विवेक ढांड, महापौर एजाज ढेबर, शराब कारोबारी अमोलक भाटिया, होटल कारोबारी गुरूचरण होरा, कारोबारी संजय संचेती, मीनाक्षी टुटेजा, कमलेश जैन,आबकारी विभाग के ओएसडी ए पी त्रिपाठी, एवम एक अन्य सी ए के रायपुर एवम भिलाई के ठिकानों पर छापे पड़े हैं। छापे में आयकर विभाग समेत विभिन्न एजेंसियों के करीब पांच सौ अधिकारी-कर्मचारी शामिल किए गए हैं। स्थानीय स्तर पर पुलिस का सहयोग लेने की बजाए सीआरपीएफ के 200 जवानों को तैनात किया गया है। सूचना पाकर पहुंची स्थानीय पुलिस को भी इस मामले में दखल दिए जाने से सख्ती से रोक दिया गया। जानकारों का कहना है कि कुल 60 ठिकानों पर एक साथ कार्रवाई चल रही है।

आबकारी विभाग के ओएसडी ए.पी. त्रिपाठी के भिलाई स्थित सेक्टर-9 के बंगले पर भी टीम ने छापामार कार्रवाई की है। छापेमारी में नकदी और निवेश के महत्वपूर्ण दस्तावेजों की बरामदगी की जानकारियां मिल रही है। ओएसडी त्रिपाठी के यहां छानबीन के दौरान एक महत्वपूर्ण डायरी मिली है। इस डायरी में शराब परिवहन का ब्यौरा शामिल है। कार्रवाई में शामिल अफसरों का अनुमान है कि इस डायरी की मदद से कई बड़े खुलासे होंगे।श्री त्रिपाठी के भिलाई स्थित बंगले में सुबह 7:50 पर रेड पड़ी, तब से अभी 4 बजे तक कार्रवाई जारी है।  5 से ज्यादा विभाग के अफसर, 20 कर्मचारी और 6 फोर्स के जवान बंगलें में मौजूद हैं।

अन्य अफसरएवम ब्यापारियो के यहां भी छापे की कारवाई जारी है अभी कोई ब्यौरा नही मिला है। बताया गया है कि पिछले दो-तीन महीनों से यह अफसर व्यापारी आयकर विभाग के निशाने पर थे पिछले दिनों मुख्य आयकर आयुक्त ने भी छत्तीसगढ़ आकर इसकी समीक्षा की थी तब से छापे पडने की आशंका बढ़ गई थी। ज्ञातव्य है कि पिछले हफ्ते ही लोहा व्यापारी एवं एक दवा व्यापारी के यहां छापा पड़ा था। दोनों संस्थानों ने करोड़ों रुपए की राशि जमा की है जहां बडी रकम आयकर चोरी का खुलासा हुआ था।

Related Articles

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button