सम्पादकीय

राजधानी में होली में लोग पी गये 26 करोड़ की शराब

कोरोना का डर नहीं , होली के पहले दिन शराब दुकनों में दिन भर लगी रही भीड सोमवार को ही बिक गई 10.21 करोड की शराब रायपुर, राजधानी में होली के अवसर पर कोरोना वायरस की दहशत के चलते भले ही चिकन-मटन मार्केट में सन्नाटा पसरा हुआ था लेकिन आबकारी विभाग की दारू दुकानों में लगातार भीड़ बनी रही। होली के पहले 3 दिनों में राजधानी रायपुर समेत जिले में लोग 26 करोड की शराब पी गये। होली के एक दिन पहले सोमवार को करीब 10.21 करोड की शराब बिकी जो गत वर्ष की तुलना में 3 करोड रुपए ज्यादा है।

इसी तरह पिछले साल की तुलना में होली के 3 दिन पहले 6 करोड़ की शराब ज्यादा बिकी जो होली के अवसर पर राजधानी में अब तक की सर्वाधिक बिक्री का रिकार्ड है। प्राप्त आंकड़ों के अनुसार होली के 1 दिन पहले सोमवार को राजधानी रायपुर में 10 करोड़ 21 लाख, रविवार को 9 करोड़ 40 लाख और शनिवार को 6 करोड़ 34 लाख की शराब की बिक्री हुई जो पिछले वर्ष की तुलना में इन 3 दिनों में 6 करोड़ की ज्यादा शराब की बिक्री हुई। वैसे राजधानी में होली के अवसर पर ज्यादा शराब की बिक्री होती है, जबकि सामान्य दिनों में तीन से चार करोड़ रुपए की शराब बिकती है । त्यौहार के अवसर पर यह आंकडा 4 से 5 करोड तक पहुंच जाता है। वैसे होली में देसी के शौकीन भी विदेशी शराब की पैग को शान समझते है यही वजह है कि राजधानी में विदेशी शराब की बिक्री देसी की तुलना में तीन गुनी बढ जाती है। इस होली में भी शनिवार, रविवार एवम सोमवार को रोजाना 2 से 3 करोड की देसी शराब की बिक्री हुई। कोरोना ; शराब दुकान बंद या स्थगित करने पर विचार होमंत्री डा प्रेमसाय

 कोरोना इफेक्ट के चलते अधिकांश सार्वजनिक जगहों पर 31 मार्च तक बंद या स्थगन का आदेश अमल में आ गया है। यहां तक कि स्कूल कालेज बंद करने के साथ परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई है। इस बीच राजनीतिक व गैर राजनीतिक मंच से शराब दुकानों को भी बंद कराने की मांग आ रही है इसलिए कि इसका संचालन राज्य सरकार के हाथों में ही है। इन बयानों के बीच शासन के वरिष्ठ मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने कहा कि क्यों न शराब दुकान बंद कराने पर विचार किया जाना चाहिए। अक्सर यहां पर लोगों की भीड़ जुटी रहती है। फैसला सरकार को लेना है। समय आने पर किया जाएगा विचार-लखमा कोरोना वायरस के चलते शराब दुकानों को बंद किया जाए या नहीं, इस पर बहस छिड़ी हुई है। इस बीच आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि सोशल मीडिया में यह बात चल रही है, जिसे भाजपा के लोग बढ़ा चढ़ाकर पेश कर रहे हैं। हमारी सरकार पूरी तरह अलर्ट है, इसलिए केन्द्र की एडवायजरी का पालन कर रही है। स्कूल-कालेज से लेकर और भी जगहों पर तत्काल प्रभाव से संज्ञान लिया गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल त्वरित निर्णय लेते हैं। जहां तक आ रही बात का सवाल है जब समय आएगा तो विचार किया जाएगा। अब तक कोई ऐसी बात नहीं आई है। सरकार पूरी तरह गंभीर है। भीड़ की बात आप करते हैं तो भीड़ कहां नहीं होती, चाहे व किराना, कपड़ा दुकान या मंदिर-मस्जिद क्यों न हों? सरकार को क्या करना है और कब करना है? वह भली भांति जानती है।

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button