वन-वन्यजीवन

राजकीय पशु आशा की मौत

7 पाडों को जन्म देने वाली आशा 21 साल की थी, श्यामू -रामू की मौत हाल ही में हुई है

 रायपुर, गरियाबंद के वनभैैैैसा संरक्षण केंद्र में रह रहे राजकीय पशु आशा की बीती रात को मौत हो गई , 2 दिन से वह बीमार थी। आशा ने 7 पांडोंं को जन्म दिया था जिसमें से एक मादा थी इसके अलावा एक अन्य वन भैंसा भी बीमार बताया गया है ।

बताया गया है कि आशा की उम्र 21 साल थी उसे गरियाबंद स्थित वन भैंसा संरक्षण एवं संवर्धन केंद्र में रखा गया था उम्रदराज केे साथ ही वह 2 दिन पहले बीमार भी हो गई, इस घटना से वन अमला चिंतित है जो इनके संवर्द्धन एवं संरक्षण के लिए प्रयासरत है। आशा से 6 नर एवम एक मादा पाडा ने जन्म लिया था।

बताया गया है कि यहीं पर ही एक और वन भैंसा प्रिंस भी है जो आंख की तकलीफ के चलते बीमार है। प्रदेश में राजकीय पशुओं की संख्या तेजी से घट रही है जो चिंतनीय है।गरियाबंद के उदंती अभ्यारन्य में ही अब 10 वनभैसे बचे है जो विशुध्द प्रजाति के है।

यहां यह बताना जरूरी होगा कि कुछ माह पहले ही गरियाबंद के उदंती अभ्यारन्य क्षेत्र में श्यामू एवम रामू नाम के 2 वनभैसों की मौत हुई थी, दिलचस्प बात यह कि अभी वन अमला 5 मादा वनभैसों को लेने असम गया हुआ है उनके लौटने से पहले ही आशा की मौत हो गई।

Related Articles

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button