वन-वन्यजीवन

विश्व सर्प दिवस; दुनिया के 10 सबसे जहरीले सांप, डस लें तो मरना तय

नईदिल्ली, दुनियाभर में हर साल 16 जुलाई को विश्व सर्प दिवस (World Snake Day) मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मकसद लोगों के दिलों से सांपों को लेकर फैली भ्रांतियों को दूर कर उन्हें इसके बारे में जागरुक करना है। बता दें कि सांप दुनिया के उन जीवों में शामिल है, जिसे लेकर लोगों में सबसे ज्यादा गलतफहमी है। मसलन लोगों को लगता है कि हर सांप जहरीला होता है, इसलिए अपनी सुरक्षा के लिए उसे मारना जरूरी है। जबकि हकीकत में दुनियाभर के कुल सांपों में से सिर्फ 7% ही जहरीले होते हैं। बाकी के 93% फीसदी सांप बिना जहर वाले होते हैं।

दुनिया के 10 सबसे जहरीले सांप

इनलैंड ताइपन (Inland Taipan)
इनलैंड ताइपन (Inland Taipan) दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में से एक है। ये सांप ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। हमला करने से पहले यह सांप अपने शरीर को तेजी से सिकोड़ लेता है। उसके बाद अचानक डस लेता है। इसके काटने से इंसान एक घंटे से भी कम समय में मर सकता है। इनलैंड ताइपन के काटने से शख्स को तुरंत लकवा मार जाता है। इनलैंड ताइपन एक बार में 110 मिलिग्राम जहर उगलता है, जो 100 लोगों की जान लेने के लिए काफी है। इसका जहर न्यूरोटॉक्सिक होता है। 

ईस्टर्न ब्रॉउन स्नेक (Eastern Brown Snake): 
ईस्टर्न ब्रॉउन स्नेक दुनिया के सबसे जानलेवा सांपों में से है। इनलैंड ताइपन के बाद यह दुनिया का दूसरा सबसे जहरीला जमीनी सांप माना जाता है। यह भी ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। इनलैंड ताइपन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे जहरीला लैंड स्नेक माना जाता है। वयस्क ईस्टर्न ब्राउन सांप पतला होता है और लंबाई में 7 फीट तक हो सकता है। इनके काटने पर  जी मिचलाना, उल्टी, पेट दर्द और सिरदर्द होता है। वैसे इस सांप को जब तक छेड़ा न जाए तो वो कुछ नहीं करते। ये सिर्फ हिलने डुलने पर ही हरकत करते हैं। 

ब्लैक मांबा (Black Mamba)
ब्लैक मांबा अफ्रीका का सबसे जहरीला और जानलेवा सांप है। इसका जहर कार्डियोटॉक्सिक (Cardiotoxic) होता है, जिससे दिल का दौरा पड़ता है। इसके एक बूंद जहर भी इंसान की जान लेने के लिए काफी है। अगर आधे घंटे में एंटीवेनम न मिले तो जान बचाना मुश्किल हो जाता है। इसका जहर नर्वस सिस्टम और मासंपेशियों को नुकसान पहुंचाता है, जिससे इंसान को लकवा मार जाता है। इस सांप की लंबाई 6 से 8 फीट तक होती है और यह 30 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से भागता है। 

कॉमन डेथ एडर (Common Death Adder)
कॉमन डेथ एडर भी दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में से एक है। देखने में यह वाइपर जैसा दिखता है और उसी प्रजाति का है। डेथ एडर सांप के  पास एक चौड़ा, चपटा और ट्राएंगुलर सिर के साथ ही मोटा शरीर होता है जिस पर लाल, भूरे और काले रंग के बैंड बने होते हैं। इस सांप की लंबाई ज्यादा नहीं होती। ये मुश्किल से 1 मीटर के होते हैं, लेकिन जहर के मामले में ये दुनिया के सबसे खतरनाक सांपों में से एक हैं।

 बेल्चर्स सी स्नेक (Belcher’s Sea Snake)
बेल्चर्स सी स्नेक को दुनिया का सबसे जहरीला समुद्री सांप कहा जाता है। इस सांप के काटने से 30 मिनट से भी कम समय में मौत हो सकती है। ये सांप आकार में छोटे होते हैं और पीले रंग के केस और हरे रंग के क्रॉसबैंड के साथ दिखते हैं। बेल्चर्स सी स्नेक का भोजन छोटी मछलियां और जलीय जीव हैं। यह जहरीला सांप ज्यादातर हिंद महासागर, थाईलैंड की खाड़ी, न्यू गिनी और इंडोनेशिया के समुद्री तट के आसपास पाया जाता है। इसका जहर इनलैंड ताइपन से 100 गुना ज्यादा खतरनाक होता है।

बैंडेड करैत (Banded Krait)
करैत भारत में पाई जाने वाली सबसे जहरीली प्रजाति का सांप है। हालांकि, ये बेहद शर्मीला होता है। बैंडेड करैत देखने में बहुत खूबसूरत होता है और इसे अहिराज सांप भी कहते हैं। हालांकि, ये जितना खूबसूरत है, उससे कई गुना जहरीला है। ये बेहद कम काटता है और गलती से पैर पड़ने या खुद पर हुए हमले की वजह से ही काटता है। बैंडेड करैत का जहर न्यूरोटॉक्सिक होता है। ये सीधे नर्वस सिस्टम पर असर करता है। ये सांप ज्यादातर रात में निकलते हैं। इनके दांत छोटे होते हैं। कई बार शिकार को पता भी नहीं चलता कि उसे सांप ने काट लिया है और बिस्तर पर ही उसकी मौत हो जाती है।

 फिलीपीन कोबरा (Phillipine Cobra)
यह कोबरा प्रजाति का ही एक सांप है, जो ज्यादातर फिलीपींस और उसके आसपास के देशों में पाया जाता है। ये सामान्य कोबरा सांप से ज्यादा जहरीला होता है। ये सांप आकार में 3 मीटर तक लंबे होते हैं। इसका जहर न्यूरोटॉक्सिक होता है, जो सीधा नर्वस सिस्टम पर असर करता है। फिलीपिनी कोबरा के काटने से इंसान को लकवा मार जाता है। समय से एंटीवेनम नहीं मिली तो आधे घंटे में जान जा सकती है। 

रैटल स्नेक (Rattle Snake)
रैटल स्नेक उत्तरी अमेरिका में पाया जाने वाला सबसे जहरीला सांप है। इसकी पूंछ के आखिरी सिरे में छल्ले की तरह बना होता है, जिससे यह कंपन कर झुनझुने की तरह आवाज निकालता है। इस सांप का जहर हीमोटॉक्सिक होता है, जो इंसान के खून में मिलकर ऊतकों को नष्ट करने लगता है। समय से एंटीवेनम न मिले तो इसके काटने पर बचना मुश्किल होता है।

 पिट वाइपर (Pit Viper)
पिट वाइपर सांप का मध्य और दक्षिण अमेरिका में पाए जाते हैं। इनकी लंबाई 4 से 7 फीट तक हो सकती है। इनके जहर में एंटीकॉगुलेंट (Anticogulant) होता है, जिससे ब्रेन हेमोरेज (Hemorrhage) होने का डर रहता है। ये सांप एक बार में 90 बच्चों को जन्म देता है। समय से एंटीवेनम न मिले तो मरीज की जान बचाना बेहद कठिन हो जाता है। 

ईस्टर्न टाइगर स्नेक (Eastern tiger Snake)
ईस्टर्न टाइगर स्नेक दक्षिण-पूर्व ऑस्ट्रेलिया और तस्मानिया के पहाड़ों और घास के मैदानों में पाया जाता है। इसे टाइगर स्नेक इसलिए कहते हैं क्योंकि इसके शरीर पर पीले और काले रंग के धब्बे होते हैं। 15 मिनट में ही इसका जहर एक इंसान की जान ले सकता है। इसका जहर न्यूरोटॉक्सिन, कोगुलेंट, हेमोलिसिन और मायोटॉक्सिन के मिश्रण से बनता है। इस सांप की औसत लंबाई 4 से 6 फीट तक होती है। 

Related Articles

Back to top button