स्वास्थ्य

एम्स के आयुष में प्रारंभ हुई कोरोना वायरस की स्क्रिनिंग और काउंसलिंग

  पॉजीटिव पाई गई छात्रा की हालत तीसरे दिन भी स्थिर  गैर जरूरी रोगियों को ओपीडी में आने से बचने की सलाह दी गई है  एक रोगी के साथ सिर्फ एक परिजन को ही एम्स में आने की अनुमित होगी

रायपुर, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के आयुष बिल्डिंग में कोरोना वायरस के संदिग्ध रोगियों की स्क्रिनिंग और काउंसलिंग शनिवार से प्रारंभ हो गई। दूसरी ओर एम्स में भर्ती कोरोना वायरस की पॉजीटिव पाई गई छात्रा की हालत तीसरे दिन भी स्थिर बनी हुई है। उसके पिता और एक अन्य कर्मचारी का टेस्ट नेगेटिव पाया गया है।

एम्स ने शनिवार से गेट नंबर एक से कोरोना के संदिग्ध रोगियों को सीधे आयुष बिल्डिंग भेजने की व्यवस्था कर दी। यहां विभिन्न प्रकार के जागरूकता फ्लेक्स लगाकर रोगियों को अपनी स्क्रिनिंग और काउंसलिंग के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। आयुष में हैल्प डेस्क से लेकर चिकित्सकों तक सभी सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं। शनिवार को यहां पहुंचे संदिग्ध रोगियों का सैंपल लेकर उसे एम्स में स्थित वीआरडीएल लैब में टेस्टिंग के लिए भेजा गया है। जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण नहीं थे उन्हें काउंसलिंग प्रदान की गई।

एम्स के हैल्थ बुलेटिन के अनुसार कोरोना वायरस की पॉजीटिव छात्रा की हालत अभी भी पूरी तरह से स्थिर बनी हुई है। उसके परिजनों के सैंपल लिए गए हैं जिसमें पिता का टेस्ट नेगेटिव हुआ है। शेष की रिपोर्ट रविवार तक मिलने की उम्मीद है। एम्स के उप-निदेशक (प्रशासन) नीरेश शर्मा ने कहा है कि एम्स की ओपीडी में आने वाले रोगियों को जरूरी चिकित्सा सुविधा के लिए ही यहां आने की सलाह दी गई है। इसके साथ ही एक रोगी के साथ एक परिजन को कैंपस में प्रवेश की अनुमति होगी।

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button