व्यापार-उद्योग

बीएसएनएल के कर्मचारियों को केंद्र का अल्टीमेटम; कहा- ‘सरकारी’ रवैया छोड़कर काम करें वरना घर जाएं

नई दिल्ली, सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल के कर्मचारियों से दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा है कि वे ‘सरकारी’ रवैया छोड़कर काम करें. उन्होंने कहा कि ऐसे कर्मचारी जो उम्मीदों के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं उन्हें अनिवार्य रूप से रिटायर होने और घर जाने के लिए तैयार रहना होगा.

टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक, वैष्णव ने कथित तौर पर बीएसएनएल के 62,000 कर्मचारियों को चेतावनी दी है कि जारी की गई चेतावनी को लेकर उनके मन में कोई संदेह नहीं होना चाहिए. केंद्रीय मंत्री हाल ही में बीएसएनएल के रिवाइवल के लिए 1.64 लाख करोड़ रुपये के पैकेज लाए थे जिसे  केंद्र सरकार की ओर से मंजूरी मिल गई है. वरिष्ठ प्रबंधन के साथ एक बैठक में वैष्णव ने कहा कि आपको वह करना होगा जो आपसे अपेक्षित है नहीं तो पैकअप कर लीजिए. इस पर आपको कोई संदेह नहीं होना चाहिए. उन्होंने कर्मचारियों से या तो प्रदर्शन करने या रिटायर होने को कहा.

एमटीएनएल का भविष्य
रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि एमटीएनएल का ‘कोई भविष्य नहीं’ है. उन्होंने कहा कि सरकार एमटीएनएल को लेकर बहुत कुछ नहीं कर सकती है. उन्होंने कहा कि सभी जानते हैं कि एमटीएनएल की बाधाएं क्या है और इसके सामने क्या समस्याएं आती हैं. बकौल वैष्णव, उसके लिए एक अलग योजना बनाई जाएगी और उसके आधार पर आगे कदम उठाए जाएंगे.

बीएसएनल के दफ्तरों में गंदगी
केंद्रीय मंत्री ने बीएसएनएल के दफ्तरों में गंदगी व उनकी बदहाल हालत को लेकर भी अधिकारियों को फटकार लगाई. उन्होंने झारसुगुडा में बीएसएनएल दफ्तर में गंदगी का उदाहरण देते हुए कहा कि उसे देखकर चुल्लू भर पानी में डूबने का मन करे. उन्होंने कहा कि दफ्तर बहुत गंदा था. केंद्रीय मंत्री ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर ये सब ठीक नहीं हुआ तो बीएसएनल की शीर्ष लीडरशीप को खत्म कर दिया जाएगा.

काम न करने वाले वीआरएस लें
अश्विनी वैष्णव ने कहा कि जिन लोगों को काम नहीं करना है वे वीआरएस लेकर घर जाने के स्वतंत्र हैं. उन्होंने कहा कि अगर वे इसका विरोध करते हैं तो समय से पहले सेवानिवृत्ति देने वाले नियम को लागू कर दिया जाएगा. उन्होंने बीएसएनल के कर्मचारियों से बेहद प्रतिस्पर्धी होने के कहा.

Related Articles

Back to top button