विधान सभा

आयकर छापा;सरकार की भूमिका पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए विपक्ष ने किया हंगामा

रायपुर, प्रदेश के बड़े ठिकानों पर आयकर के छापे की कार्रवाई के दौरान प्रदेश सरकार की भूमिका पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए विपक्ष ने आज विधानसभा में हंगामा किया। विधानसभा अध्यक्ष को सदन की कार्यवाही 5 मिनट के लिए स्थगित करनी पड़ी। शून्यकाल के दौरान भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने कहा कि राजधानी रायपुर व दूसरे स्थानों पर जब छापे की कार्रवाई चल रही थी सरकार में बैठे लोगों का असंतुलित व्यवहार सामने आया। छापे का कार्रवाई में जो गाड़ियां लगी हुई थीं वह जब्त कर ली गईं। वाहन चालकों को थाने में बिठा दिया गया। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने पहले दिन तो छापे की कार्रवाई का स्वागत किया, दूसरे दिन इसके विरोध में धरना प्रदर्शन करते नजर आए। इस पर हमने स्थगन प्रस्ताव दिया है जिस पर सदन में चर्चा कराई जाए।

नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने कहा कि इतनी ही तकलीफ है तो पनामा मामले को क्यों याद नहीं कर लेते। डॉ. डहरिया के यह कहने पर विपक्ष की तरफ से शोरगुल होने लगा। भाजपा विधायक ननकीराम कंवर ने कहा कि आयकर विभाग के अधिकारी केन्द्र सरकार का हिस्सा हैं। उन्हें देश में कहीं भी छापा मारने का अधिकार है। यहां पड़े छापे के विरोध में प्रदेश सरकार के सारे मंत्रियों ने बाधा डालने का काम किया। इनके खिलाफ एफआईआर हो। कांग्रेस विधायक सत्यानारायण शर्मा ने कंवर के इस कथन पर आपत्ति की।

जनता कांग्रेस विधायक धर्मजीत सिंह ने कहा कि 27 फरवरी को यहां छापे की कार्रवाई के बाद राजनीतिक अस्थिरता का वातावरण देखने को मिल रहा है। आयकर अफसरों के काम में लगी 20 गाड़ियां क्यों जब्त की गई समझ से परे है। इससे पहले भी प्रदेश में छापे पड़ते रहे हैं। रमन सरकार के समय में सुबह 4 बजे कुछ ठिकानों पर छापा मारा गया था, लेकिन ऐसी खलबली तब नहीं मची थी। अभी के छापे में कैबिनेट की मीटिंग रद्द हो जाती है। मंत्रीगण राज्यपाल से मुलाकात करने पहुंच जाते हैं। दिल्ली दौरा हो जाता है। सरकार की ओर से इस तरह दखल नहीं दिया जाना चाहिए। वेट करना चाहिए। मंत्री शिव डहरिया ने सवाल उठाया कि बिना राज्य सरकार को सूचना दिए आखिर इस तरह की कार्रवाई कैसे हो सकती है।

पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कहा कि यह तो ऐसा ही हुआ सूत ना कपास जुलाहों में लट्ठम लट्ठा। जब तक कोई परिणाम सामने नहीं आ जाता प्रतिक्रिया देने की जरूरत नहीं थी। अभी जो कुछ हो रहा है चोर की दाढ़ी में तिनका की तरह लग रहा है। भाजपा विधायक व्दय सौरभ सिंह एवं रंजना डीपेन्द्र साहू ने कहा कि छापे की कार्रवाई में जबरिया व्यवधान पैदा किया गया। इस पर जो स्थगन दिया गया है उस पर चर्चा कराई जाए।

संसदीय कार्य मंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि जिस मुद्दे पर यहां बहस हो रही है वह सदन का विषयवस्तु नहीं है। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने कहा कि विपक्ष ने इस विषय पर जो स्थगन प्रस्ताव दिया है वह नियमानुसार नहीं है। इसे मैंने अपने कक्ष में ही अग्राह्य कर दिया है। विरोध में सारे विपक्षी सदस्य फिर शोर मचाने लगे। अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button