राज्य प्रशासन

कोरोना; 21 दिनों के लॉकडाउन की अवधि में घरों में रहें

कोरोना को रोकने में जनता का मिल रहा अभूतपूर्व सहयोग: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल गरीब परिवारों को दो माह का राशन मुफ्त में जल्द मिलेगा

रायपुर, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए प्रदेश की जनता का अभूतपूर्व सहयोग मिल रहा है, इसकी पूरे देश में सराहना हो रही है। हिन्दू नव वर्ष, चैत्र नवरात्रि और गुड़ी पड़वा की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री आज प्रदेश की जनता को संबोधित करते हुए अपने संदेश में कहा कि बहुत से भाई-बहन उपवास रखते हैं। उपवास का अर्थ होता है, अपने ईष्ट के समीप रहना। नौ दिन आप अपने ईष्ट के समीप रहेंगे। भारत सरकार और राज्य सरकार ने 21 दिन का लॉकडाउन किया है। आप सभी को इस दौरान अपने-अपने घरों में रहना है। अपने ईष्ट के समीप रहना है। अपने परिवार के साथ रहना है, इसी में हम सबकी सुरक्षा है। राज्य में किसी भी प्रकार की कोई कमी नहीं हैं। सरकार का पूरा तंत्र जनता के साथ है तथा स्वास्थ्य और भोजन के साथ ही जरूरी सुविधाओें की व्यवस्था में लगा है।
        मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत से गांवों से साथी लोग फोन करके बता रहे हैं कि हम लोग अपने गांवों में बाहर से जो लोग आ रहे हैं उन्हंे बिना मेडिकल चेकअप के गांव के भीतर नहीं आने देंगे। यही सही मायने में कर्फ्यू का अर्थ है। यह कानून व्यवस्था की स्थिति नहीं है बल्कि ये आम जनता की सुरक्षा का मामला है। यही हम चाह रहे हैं कि लोग अपने अपने गांवों-शहरों और मोहल्लों में सुरक्षा करें। किसी भी व्यक्ति को घर से बाहर नहीं जानें दें और कोई भी बाहरी व्यक्ति आते हैं तो उनकी जांच किए बिना घर में नहीं आने देना है। ये आप लोगों को 21 दिनों तक करना है।
       मुख्यमंत्री ने बताया कि गरीब परिवारों को राज्य सरकार दो माह का राशन मुफ्त में देने का फैसला किया है। बहुत जल्दी यह सुविधा लोगों को मिलेगी। कुछ साथी लोग जिनके पास खाने की व्यवस्था नहीं है, रहने की व्यवस्था नहीं है। ऐसी स्थिति में सभी कलेक्टरों को निर्देशित किया गया है कि इन लोगों के लिए आवश्यक व्यवस्था करंे।
         मुख्यमंत्री ने सामाजिक संगठनों से जिनके पास भोजन पकाने की व्यवस्था है। जरूरतमंदों के लिए भोजन के पैकेट उपलब्ध कराने अपील की है। उन्होंने कहा है कि लंगर लगाकर खिलाने का काम नहीं करना है बल्कि पैकेट बनाकर कलेक्टर के माध्यम से सूचना देकर जरूरतमंदों तक पहुंचाने का काम करना है। उन्होंने कहा कि जो लोग घर में हैं उनके लिए खाने-पीने के सामान की बहुत सारी कमी हो जाती है। जो रोज कमाते खाते हैं उनके सामने यह स्थिति ज्यादा निर्मित होती है। इस सबंध में कलेक्टरों को निर्देश दिया गया है कि जैसे ही जानकारी मिले या फोन के माध्यम से सूचना मिले वहां तहसीलदारों, नगर निगम और नगर पालिका के अधिकारियों के माध्यम से उनकी आवश्यकता की पूर्ति की जाए। जो भी जरूरतमंद हैं उनकी आवश्यकता की पूर्ति हो। इस बात का विशेष ध्यान रखना है। कोई भी व्यक्ति भूखा न सोए। हमारे राज्य में किसी प्रकार की कमी नहीं है।


Related Articles

One Comment

  1. 645316 407263Hey I was just looking at your web site in Firefox and the image at the top with the link cant show up correctly. Just thought I would let you know. 394381

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button