राज्य प्रशासन

रायपुर में फंसे 12 राज्यों व 17 जिलों के 205 लोगों को मिलाआश्रय, भोजन

कोरोना लॉकडाउन: मुख्यमंत्री भूपेश बधेल ने किया आश्रय स्थल का मुआयना, रायपुर, देश के विभिन्न हिस्सों के ऐसे जरूरतमंद लोगों जो करोना वायरस के कारण लाॅक डाउन की स्थिति में रायपुर में फंसे हैं, के लिए जिला प्रशासन ने कोरोना राहत शिविर- आश्रय स्थल बनाया गया है । प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बधेल ने आज रायपुर के लभांडी के इस आश्रय स्थल का मुआयना किया । इस शिविर में 12  राज्यों और 17 जिलों के भटक रहे 205 लोगों को आश्रय,भोजन और सुविधा दी गई है। यहा सबसे अधिक नागरिक मध्यप्रदेश  के 27  और झारखंड के 19 है। जिले मे सबसे अधिक बलौदाबाजार के 18 और दुर्ग के13  है। छत्तीसगढ़ के 121 और रायपुर जिले के 40 है। यहां आश्रय मे सोशल ङिसटेशिग कायम रखते हुए उन्हे हर संभव मदद की जा रही है। परसो देर शाम रेलवे स्टेशन क्षेत्र   से महिलाओं, उनके साथ के दुधमुहे बच्चों, वृद्ध, दिव्यांग समेत 75 लोगों को बसों में लेकर लाभांडी स्थित प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत नवनिर्मित भवन में शिफ्ट किया गया ।
मुख्यमंत्री ने यहां रूके एक – एक व्यक्ति से मुलाकात की और उनसे कहा कि वे राज्य केे मेहमान है और उन्हें यहां किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी ,वे निश्चिंता से रहे और अपने घर -परिवार को भी अपनी कुशलता की जानकारी दें।
मुख्यमंत्री से बातचीत के दौरान झारखंड के बलदेव राणा ने बताया कि वे और उनके साथी महाराष्ट्र से लौट रहे थे। उत्तर प्रदेश के देवरिया के रामनाथ शर्मा नौकरी के तलाश में छत्तीसगढ में भटक रहे थे। मध्यप्रदेश के पिपरिया के साधु रामदास त्यागी राजिम मेला के बाद से यहां थे। महाराष्ट्र के गौतम  मजदूरी कर रहे थे। गोंदिया के श्रीकांत ट्रासपोर्ट लाईन में होने के कारण यहां फंसे थे और हरियाणा के श्री रामू परिवार की  दो महिलाओ और दो बच्चो के साथ यहां पेशी में आये थे। यहां आश्रय लिए लोगों ने बताया कि वे इन्हें भोजन, चिकित्सा, रूकने सहित जरूरी सुविधाएं मिल रही है।
मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होनेे झारखंड सहित विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियो से बातचीत की है और आश्वस्त किया कि उनके राज्यो के लोग छत्तीसगढ में अच्छे से रहेगे। उन्होंने छत्तीसगढ के मजदूरों और नागरिको के उनके राज्यों मे फंसे होने की स्थिति में उनसे हर संभव सहयोग देने का आग्रह भी किया है। यह भी कहा कि ऐसे ही आश्रय शिविर राज्य के सभी जिलो में बनाएं गए है।

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button