मौसम

पश्चिमी विक्षोभ, छत्तीसगढ़ में बारिश की संभावना

रायपुर, मौसम विभाग के अनुसार 10 मार्च को बादल छाये रहेंगे और एक-दो बार हल्की बारिश व गरज के साथ वज्रपात होने की संभावना है. वहीं 11-13 मार्च को एक-दो बार हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश होगी और कहीं-कहीं गरज के साथ वज्रपात होने की संभावना है। अगले 24 घंटों के दौरान, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडू, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में हल्की से मध्य बारिश होने के आसार है।मध्य प्रदेश के दक्षिणी भागों सहित, दक्षिणी छत्तीसगढ़ और विदर्भ क्षेत्र के अलग-अलग स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश देखी जाएगी. जबकि, मध्य भारत के अन्य हिस्सों में मौसम शुष्क और आरामदायक बना रहेगा।

12 मार्च तक जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और तमिलनाडु के तटीय इलाको, पुड्डुचेरी और कारिकल को छोड़कर पूरे भारत में अधिकतम तापमान सामान्य से कम रहने की उम्मीद मौसम विभाग ने व्यक्त की है. 12 मार्च तक कई राज्यों में रात के तापमान के भी सामान्य से कम रहने की उम्मीद है. महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, तेलंगाना और अरुणाचल प्रदेश में रात का तापमान सामान्य से कम रहेगा। नजर आने लगेगा पश्चिमी विक्षोभ का असर

मौसम विभाग के अनुसार, पश्चिमी विक्षोभ के कारण देश के कुछ इलाकों में ओले पड़ सकते हैं और कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है. भारतीय मौसम विभाग ने बताया है कि 10-14 मार्च के दौरान पश्चिमी विक्षोभ की वजह से मौसम अचानक करवट लेगा. इस दौरान होने वाले बदलाव के कारण बारिश के साथ तेज हवाएं चलने का अनुमान है। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में बारिश की संभावना

सोमवार को मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और विदर्भ में बारिश की संभावना है. मध्य प्रदेश के दक्षिणी भागों सहित, दक्षिणी छत्तीसगढ़ और विदर्भ क्षेत्र के अलग-अलग स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश देखी जाएगी. 10 मार्च को राजस्थान के पश्चिमी और उत्तरी भागों में कुछ स्थानों पर गरज और तेज़ हवाओं के साथ फिर से हल्की बारिश हो सकती है।

मार्च में रायपुर का मौसम शीत से गीष्म ऋतु का संक्रमण काल का समय ही माह मार्च है । इस माह में तापमान दिन प्रतिदिन बढता हुआ महीने के अंत तक 40.0 डिग्री सेल्सियस या उससे अधिक हो जाता है । इस माह में औसत आर्द्ता लगभग 27 प्रतिशत से 43 प्रतिशत होती है । कभी कभी वातावरण धूमिल होता है । इस माह में अधिकतम और न्युनतम तापमान का अंतर बहुत ज्यादा होता है । न्यूनतम तापमान जो अक्सर 20 डि. से. के आसपास होता है, वह कभी कभी 10.0 डिग्री सेल्सियस से भी कम हो जाता है । उत्तरी भारत से होकर जाने वाले शीतकालीन विक्षोभों के प्रभाव से कभी – कभी आकाश बादलो से आच्छादित हो जाता है । तथा गर्जन एवं वर्षा होने की भी संभावना रहती है कभी कभी ओलाव्रुष्टी के साथ मेघ गर्जना भी होती है। इस माह में गर्जन होने वाले दिनों की औसत संख्या 1.7 है । इस माह में वायु की औसत 7 कि मी प्रति घंटा है । इस माह में औसत वर्षा 11.9 मि. मी. है । उपलब्ध अभिलेख के अ।धार पर रायपुर का इस माह सबसे अधिकत्तम तापमान 43.3 डिग्री सेल्सियस 28 मार्च 1892 में, न्यूनतम तापमान 4 मार्च 1898 को 8.3 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया, सन 1926 में सर्वाधिक कुल मासिक वर्षा 108.2 मि..मी. और 17 मार्च 1906 में 24 घंटे में 55.9 मि..मी. है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button